PODCAST EPISODE

SHRIMAD BHAGWADGITA ADHYAY 13

SHRIMAD BHAGWADGITA

15-03-2022 • 4 mins


#गीता #amitwadhwa #bhagwadgeeta

SHRIMAD BHAGWAD GEETA IN HINDI ADHYAY 13


Shrimadbhagwadgeeta : Jiske vishay mein sabhi vidwan ek mat hokar kehte hain ki yah sarvshaastramai shiromani hai. jeevan jeene ki kala sikhane wali aisi pustak jiska gyan ati guhya hai, jisme parmatma ke shabdon se prateet hota ki wah prem ke sagar bhi hain to Dharmraaj bhi hain... mitra bhi hain to maargdarshak bhi hain.. dayalu bhi hain to ek Nyaydheesh evam dharmraj swaroop bhi hain ... aur gyaan ke sagar to hain hi...


itne apnepan aur rehamdili ke bhaaw se kahe gaye goodh gyaan ko padhkar aur sunkar apnatva hi mehsoos hota hai isiliye hi ise saral karne ke uddeshya se is par sarvadhik teeka tippani bhi hui hai. baharhaal, main samjhta hun ki Bharatwasi hokar yadi humne Geeta paath baar baar nahi kiya ya baar baar nahi suna to Devi Devta Dharm ke is shastra ki dharnayukt shikshayen kaise seekhenge ?



isiliye hi geeta gyaan ko saral bhasha mein prastu karne ka yah ek prayas hai is nivedan ke saath ki parmatma kehte hain "Hey Arjun" Tum jise dekh rahe ho , wah shareer maatra hai, tum to shareer se pare ek "Aatma" ho. Arjun = Gyan ka Arjan karne wali Aatma Kyon na hum Gyaan ki Chatrak Aatma ban kar geeta Gyan Ko Sune aur Samjhen ki Pramatma Mujhe hi Geeta Gyan De rahe hain... main samjhta hun, is bhaav se sunne mein Geeta hume pehle se adhik samajh mein aayegi. krupya Geeta ke Adhyaon ko baar baar karein athwa baar baar sunein , kyonki Geeta se hi Mukti athwa Jeevan Mukti Sambhaw hai. Prastut Hai Adhyay - 13


Dhanywad

rjamit.co/connect


#भगवद्गीता श्रीमद भगवद गीता हिंदी में 13



श्रीमद्भगवद्गीता: जिसके विषय में सभी विद्वान एक मत होकर कहते हैं की यह सर्वशास्त्रमई शिरोमणि है. जीवन जीने की कला सीखने वाली ऐसी पुस्तक जिसका ज्ञान अति गुह्य है , जिसमे परमात्मा के शब्दों से प्रतीत होता की वह प्रेम के सागर भी हैं तो धर्मराज भी हैं ... मित्र भी हैं तो मार्गदर्शक भी हैं .. दयालु भी हैं तो एक न्यायाधीश एवं धर्मराज स्वरुप भी हैं ... और ज्ञान के सागर तो हैं ही ...


इतने अपनेपन और रहमदिली के भाव से कहे गए गूढ़ ज्ञान को पढ़कर और सुनकर अपनत्व ही महसूस होता है इसीलिए ही इसे सरल करने के उद्देश्य से इस पर सर्वाधिक टीका टिपण्णी भी हुई है . बहरहाल , मैं समझता हूँ की भारतवासी होकर यदि हमने गीता पाठ बार बार नहीं किया या बार बार नहीं सुना तो देवी देवता धर्म के इस शास्त्र की धारणयुक्त शिक्षाएं कैसे सीखेंगे ?


इसीलिए ही गीता ज्ञान को सरल भाषा में प्रस्तुत करने का यह एक प्रयास है इस निवेदन के साथ की परमात्मा कहते हैं "हे अर्जुन " तुम जिसे देख रहे हो , वह शरीर मात्रा है , तुम तो शरीर से परे एक "आत्मा " हो . अर्जुन = ज्ञान का अर्जन करने वाली आत्मा क्यों न हम ज्ञान की छत्रक आत्मा बन कर गीता ज्ञान को सुने और समझें की परमात्मा मुझे ही गीता ज्ञान दे रहे हैं ... मैं समझता हूँ , इस भाव से सुनने में गीता हमे पहले से अधिक समझ में आएगी . कृपया गीता के अध्ययन को बार - बार करें अथवा बार-बार सुनें , क्योंकि गीता से ही मुक्ति अथवा जीवन मुक्ति संभव है . प्रस्तुत है अध्याय – तेरह



धन्यवाद


Aap ke suggestions invited hain, jisse apne kaam ko aur behtar kiya jaa sake.


rjamit.co/connect