राजा का चरित्र

भीष्म नीति Bheeshma Neeti

15-08-2022 • 1 min

जो राजा सब पर संदेह करता है और प्रजा का सर्वस्व हर लेता है, वह लोभी और कुटिल राजा एक दिन अपने ही लोगों के हाथों मारा जाता है।

जो राजा बाहर और भीतर से शुद्ध रहकर प्रजा के हृदय को अपनाने का प्रयास करता है, वह शत्रुओं का आक्रमण होने पर भी उनके वश में नहीं पड़ता। यदि उसका पतन भी हो जाए तो वह सहायकों को पाकर शीघ्र ही उठ खड़ा होता है।

अक्रोधनो ह्यव्यसनी मृदुदण्डो जितेंद्रियः।

राजा भवति भूतानां विश्वास्यो हिमवानिव।।

जिसमें क्रोध का अभाव होता है, जो बुरी आदतों से दूर रहता है, जिसका दण्ड भी कठोर नहीं होता तथा जो इंद्रियों को वश में रखता है; वह राजा हिमालय के समान प्रजा का विश्वासपात्र बन जाता है।