प्रेरणा के पंख

Supriya Baijal

तुम जीने की हो अभिलाषा, तुम हो जीवन की परिभाषा । तुम प्राण हो तुम श्वास हो, तुम आस्था-विश्वाश हो। तुम हो मेरी आराधना मेरे मन की कल्पना मेरे जीवन की प्रेरणा । read less
Society & CultureSociety & Culture

Episodes

दीपावली पर क्यों होती है माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा|Significance of Laxmi Ganesh Puja on Diwali
Oct 23 2022
दीपावली पर क्यों होती है माता लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा|Significance of Laxmi Ganesh Puja on Diwali
यहां विस्तारपूर्वक जानें मां लक्ष्मी के साथ क्यों होती है भगवान गणेश का पूजा- बता दें कि इसके पीछे बैरागी साधु की कथा भी प्रचलित है।दरअसल एक बार एक वैरागी साधु को राजसुख भोगने की लालसा हुई उसने लक्ष्मी जी की आराधना की। उसकी आराधना से लक्ष्मी जी प्रसन्न हुईं और उसे साक्षात् दर्शन देकर वरदान दिया कि उसे उच्च पद और सम्मान प्राप्त होगा। दूसरे दिन वह वैरागी साधु राज दरबार में पहुंचा। वरदान मिलने के बाद उसे अभिमान हो गया। उसने राजा को धक्का मारा जिससे राजा का मुकुट नीचे गिर गया। राजा व उसके दरबारीगण उसे मारने के लिए दौड़े। लेकिन इसी बीच राजा के गिरे हुए मुकुट से एक कालानाग निकल कर भागने लगा। फिर क्या राजा ने इसे साधु की चमत्कार समझकर उसे अपना मंत्री बना लिया.. व उसे रहने के लिए अलग से महल भी दिया। इसी तरह फिर एक दिन उस साधु ने राजा ने अनजाने में राजा की जान बचा। और ऐसे साधु को वाहवाही मिल गई। इससे उसका अहंकार और भी बढ़ गया। इसके बाद अहंकारी साधु ने भगवान गणेश की प्रतिमा को बुरा बताते हुए महल से उसे हटवा दिया फिर क्या बुद्धि और विवेक के दाता भगवान गणेश उससे नाराज़ हो गए। उसी दिन से उस मंत्री बने साधु की बुद्धि बिगड़ गई वह उल्टा पुल्टा करने लगा। तभी राजा ने उस साधू से नाराज होकर उसे कारागार में डाल दिया। साधू जेल में पुनः लक्ष्मीजी की आराधना करने लगा। फिर मां लक्ष्मी ने दर्शन दे कर उससे कहा कि तुमने गणेश जी का अपमान किया है। इसलिए गणेश जी की आराधना करके उन्हें प्रसन्न करो। फिर साधु ने ऐसा ही किया। जिससे भगवान गणेश का क्रोध शांत हो गया। गणेश जी ने राजा के स्वप्न में आ कर कहा कि साधु को पुनः मंत्री बनाया जाए। राजा ने गणेश जी के आदेश का पालन किया और साधु को मंत्री पद देकर सुशोभित किया। इस तरह लक्ष्मीजी और गणेश जी की पूजा साथ-साथ होने लगी। इसलिए कहते हैं कि बुद्धि के देवता गणेश जी की भी उपासना लक्ष्मी जी के साथ ज़रूर करनी चाहिए क्योंकि अगर लक्ष्मी घर में आ भी जाये तो बुद्धि के उपयोग के बिना उन्हें रोक पाना मुश्किल है। अतः इस कारण के चलते दीपावली की रात्रि में लक्ष्मीजी के साथ गणेशजी की भी आराधना की जाती है।
माता वैष्णोदेवी की महिषासुर वध कथा | महिषासुरमर्दिनी | Mahishasur Vadh | Jai mata Mahishasurmadini
Apr 3 2022
माता वैष्णोदेवी की महिषासुर वध कथा | महिषासुरमर्दिनी | Mahishasur Vadh | Jai mata Mahishasurmadini
महिषासुरमर्दिनी स्तोत्र -अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नंदी न्नुतेगिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते।भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१॥सुरवर वर्षिणि दुर्धर धर्षिणि दुर्मुख मर्षिणि हर्षरतेत्रिभुवनपोषिणि शङ्करतोषिणि किल्बिष मोषिणि घोषरते।दनुजनिरोषिणि दितिसुतरोषिणि दुर्मदशोषिणि सिन्धुसुतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥२॥अयि जगदम्ब मदम्ब कदम्ब वनप्रिय वासिनि हासरतेशिखरि शिरोमणि तुङ्गहिमालय शृङ्गनिजालय मध्यगते।मधुमधुरे मधुकैटभ गञ्जिनि कैटभ भञ्जिनि रासरतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥३॥अयि शतखण्ड विखण्डित रुण्ड वितुण्डित शुंड गजाधिपतेरिपुगजगण्ड विदारणचण्ड पराक्रमशुण्ड मृगाधिपते।निजभुजदण्ड निपातितखण्ड विपातितमुण्ड भटाधिपतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥४॥अयि रणदुर्मद शत्रुवधोदित दुर्धरनिर्जर शक्तिभृतेचतुरविचार धुरीणमहाशिव दूतकृत प्रमथाधिपते।दुरितदुरीह दुराशयदुर्मति दानवदुत कृतान्तमतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥५॥अयि शरणागत वैरिवधुवर वीरवराभय दायकरेत्रिभुवनमस्तक शुलविरोधि शिरोऽधिकृतामल शुलकरे।दुमिदुमितामर धुन्दुभिनाद महोमुखरीकृत दिङ्मकरेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥६॥अयि निजहुङ्कृति मात्रनिराकृत धूम्रविलोचन धूम्रशतेसमरविशोषित शोणितबीज समुद्भव शोणित बीजलते।शिवशिवशुम्भ निशुम्भमहाहव तर्पितभूत पिशाचरतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥७॥धनुरनुषङ्ग रणक्षणसङ्ग परिस्फुरदङ्ग नटत्कटकेकनकपिशङ्ग पृषत्कनिषङ्ग रसद्भटशृङ्ग हताबटुके।कृतचतुरङ्ग बलक्षितिरङ्ग घटद्बहुरङ्ग रटद्बटुकेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥८॥सुरललना ततथेयि तथेयि कृताभिनयोदर नृत्यरतेकृत कुकुथः कुकुथो गडदादिकताल कुतूहल गानरते।धुधुकुट धुक्कुट धिंधिमित ध्वनि धीर मृदंग निनादरतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥९॥जय जय जप्य जयेजयशब्द परस्तुति तत्परविश्वनुतेझणझणझिञ्झिमि झिङ्कृत नूपुर शिञ्जितमोहित भूतपते।नटित नटार्ध नटी नट नायक नाटितनाट्य सुगानरतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१०॥अयि सुमनःसुमनःसुमनः सुमनःसुमनोहरकान्तियुतेश्रितरजनी रजनीरजनी रजनीरजनी करवक्त्रवृते।सुनयनविभ्रमर भ्रमरभ्रमर भ्रमरभ्रमराधिपतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥११॥सहितमहाहव मल्लमतल्लिक मल्लितरल्लक मल्लरतेविरचितवल्लिक पल्लिकमल्लिक झिल्लिकभिल्लिक वर्गवृते।शितकृतफुल्ल समुल्लसितारुण तल्लजपल्लव सल्ललितेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१२॥अविरलगण्ड गलन्मदमेदुर मत्तमतङ्ग जराजपतेत्रिभुवनभुषण भूतकलानिधि रूपपयोनिधि राजसुते।अयि सुदतीजन लालसमानस मोहन मन्मथराजसुतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१३॥कमलदलामल कोमलकान्ति कलाकलितामल भाललतेसकलविलास कलानिलयक्रम केलिचलत्कल हंसकुले।अलिकुलसङ्कुल कुवलयमण्डल मौलिमिलद्बकुलालिकुलेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१४॥करमुरलीरव वीजितकूजित लज्जितकोकिल मञ्जुमतेमिलितपुलिन्द मनोहरगुञ्जित रञ्जितशैल निकुञ्जगते।निजगुणभूत महाशबरीगण सद्गुणसम्भृत केलितलेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१५॥कटितटपीत दुकूलविचित्र मयुखतिरस्कृत चन्द्ररुचेप्रणतसुरासुर मौलिमणिस्फुर दंशुलसन्नख चन्द्ररुचे।जितकनकाचल मौलिमदोर्जित निर्भरकुञ्जर कुम्भकुचेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१६॥विजितसहस्रकरैक सहस्रकरैक सहस्रकरैकनुतेकृतसुरतारक सङ्गरतारक सङ्गरतारक सूनुसुते।सुरथसमाधि समानसमाधि समाधिसमाधि सुजातरतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१७॥पदकमलं करुणानिलये वरिवस्यति योऽनुदिनं सुशिवेअयि कमले कमलानिलये कमलानिलयः स कथं न भवेत्।तव पदमेव परम्पदमित्यनुशीलयतो मम किं न शिवेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१८॥कनकलसत्कल सिन्धुजलैरनु षिञ्चतितेगुण रङ्गभुवम्भजति स किं न शचीकुचकुम्भ तटीपरिरम्भ सुखानुभवम्।तव चरणं शरणं करवाणि नतामरवाणि निवासि शिवम्जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥१९तव विमलेन्दुकुलं वदनेन्दुमलं सकलं ननु कूलयतेकिमु पुरुहूतपुरीन्दु मुखी सुमुखीभिरसौ विमुखीक्रियते।मम तु मतं शिवनामधने भवती कृपया किमुत क्रियतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥२०॥अयि मयि दीन दयालुतया कृपयैव त्वया भवितव्यमुमेअयि जगतो जननी कृपयासि यथासि तथानुमितासिरते।यदुचितमत्र भवत्युररी कुरुतादुरुता पमपाकुरुतेजय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते॥२१॥
ॐ जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare| Full Aarti | Om Jai Jagdish Hare Aarti with PDF in Hindi
Mar 28 2022
ॐ जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare| Full Aarti | Om Jai Jagdish Hare Aarti with PDF in Hindi
ॐ जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti PDF in Hindi ॐ जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti in Hindi ॐ जय जगदीश हरे एक हिंदू धार्मिक गीत है। यह सर्वोच्च भगवान विष्णु को समर्पित है और ज्यादातर विष्णु मंदिरों में गाया जाता है। यद्यपि धार्मिक भजन एक हिंदी भाषा की रचना है, यह हिंदुओं द्वारा व्यापक रूप से गाया जाता है। हिंदू पूजा का एक रूप, आरती के समय पूरी मण्डली द्वारा प्रार्थना गाई जाती है। यह जयदेव के गीता गोविंदा के दशावतार खंड से प्रेरित हो सकता है, जो 12वीं शताब्दी की एक गीतात्मक रचना है, जिसमें एक ही भाव है। ॐ जय जगदीश हरे आरती | Om Jai Jagdish Hare Aarti Lyrics ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे। भक्तजनों के संकट क्षण में दूर करे॥ जो ध्यावै फल पावै, दुख बिनसे मन का। सुख-संपत्ति घर आवै, कष्ट मिटे तन का॥ ॐ जय…॥ मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूं किसकी। तुम बिनु और न दूजा, आस करूं जिसकी॥ ॐ जय…॥ तुम पूरन परमात्मा, तुम अंतरयामी॥ पारब्रह्म परेमश्वर, तुम सबके स्वामी॥ ॐ जय…॥ तुम करुणा के सागर तुम पालनकर्ता। मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥ ॐ जय…॥ तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति। किस विधि मिलूं दयामय! तुमको मैं कुमति॥ ॐ जय…॥ दीनबंधु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे। अपने हाथ उठाओ, द्वार पड़ा तेरे॥ ॐ जय…॥ विषय विकार मिटाओ, पाप हरो देवा। श्रद्धा-भक्ति बढ़ाओ, संतन की सेवा॥ ॐ जय…॥ श्री जगदीशजी की आरती जो कोई नर गावे। कहत शिवानंद स्वामी, मनवांछित फल पावे॥ ॐ जय…॥
द्वादश ज्योतिर्लिंगों की महत्ता | 12 jyotirlinga of India | ऊं नमः शिवाय भारत के अद्भुत ज्योतिर्लिंग
Mar 15 2022
द्वादश ज्योतिर्लिंगों की महत्ता | 12 jyotirlinga of India | ऊं नमः शिवाय भारत के अद्भुत ज्योतिर्लिंग
Hello Everyone , भारत में कई शिव मंदिर और शिव धाम हैं लेकिन 12 ज्योतिर्लिंगों का महत्व सबसे अधिक है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इन 12 ज्योतिर्लिंगों में ज्योति रूप में भगवान शिव स्वयं विराजमान हैं। देश के अलग- अलग भागों में शिव के ये पावन ज्योतिर्लिंग स्थित हैं। ऐसा माना जाता है, 12 ज्योतिर्लिंगों के दर्शन मात्र से ही सभी पापों का नाश हो जाता है। आइए, आज जानते हैं देश में कहां-कहां पर स्थित हैं भगवान शिव के ये 12 ज्योतिर्लिंग...1 - गुजरात के सौराष्ट्र क्षेत्र में स्थित सोमनाथ ज्योतिर्लिंग को पृथ्वी का पहला ज्योतिर्लिंग माना जाता है। यहां पर देवताओं द्वारा बनवाया गया एक पवित्र कुंड भी है, जिसे सोमकुण्ड या पापनाशक-तीर्थ कहते हैं।2 - मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग आंध्र प्रदेश में कृष्णा नदी के तट पर श्रीशैल नाम के पर्वत पर स्थित  है।3 - मध्य प्रदेश स्थित के उज्जैन में महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग स्थित है। ये एकमात्र दक्षिणमुखी ज्योतिर्लिंग है। यहां प्रतिदिन होने वाली भस्मारती विश्व भर में प्रसिद्ध है।4 - मध्य प्रदेश के मालवा क्षेत्र में शिव का यह पावन धाम स्थित है। इंदौर शहर के पास जिस स्थान पर यह ज्योतिर्लिंग है, उस स्थान पर नर्मदा नदी बहती है और पहाड़ी के चारों ओर नदी बहने से यहां ॐ का आकार बनता है।5 - केदारनाथ स्थित ज्योतिर्लिंग उत्तराखंड में हिमालय की केदार नामक चोटी पर स्थित है। बाबा केदारनाथ का मंदिर बद्रीनाथ के मार्ग में स्थित है। केदारनाथ समुद्र तल से 3584 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।6 - भीमाशंकर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के पूणे जिले में सह्याद्रि नामक पर्वत पर स्थित है।7 - बाबा विश्वनाथ का यह ज्योतिर्लिंग उत्तर प्रदेश की धार्मिक राजधानी माने जाने वाली वाराणसी शहर में स्थित है।8 - त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के नासिक जिले में स्थित है। त्र्यंबकेश्वर ज्योतिर्लिंग के निकट ब्रह्मागिरि नाम का पर्वत है। इसी पर्वत से गोदावरी नदी शुरू होती है।9 - वैद्यनाथ ज्योतिर्लिंग झारखंड प्रांत के संथाल परगना में जसीडीह रेलवे स्टेशन के करीब स्थित है। धार्मिक पुराणों में शिव के इस पावन धाम को चिताभूमि कहा गया है।10 - नागेश्वर ज्योतिर्लिंग गुजरात के बड़ौदा क्षेत्र में गोमती द्वारका के करीब स्थित है। धार्मिक पुराणों में भगवान शिव को नागों का देवता बताया गया है और नागेश्वर का अर्थ होता है नागों का ईश्वर। द्वारका पुरी से नागेश्वर ज्योतिर्लिंग की दूरी 17 मील की है।11 - भगवान शिव का यह ग्यारहवां ज्योतिर्लिंग तमिलनाडु के रामनाथम नामक स्थान में स्थित है। रामेश्वरतीर्थ को ही सेतुबंध तीर्थ भी कहा जाता है। मान्यता है कि इस ज्योतिर्लिंग की स्थापना स्वयं भगवान श्रीराम ने की थी। भगवान श्री राम द्वारा स्थापित किए जाने के कारण इस ज्योतिर्लिंग को भगवान राम का नाम रामेश्वरम दिया गया है।12 - घुश्मेश्वर ज्योतिर्लिंग महाराष्ट्र के संभाजीनगर के समीप दौलताबाद के पास स्थित है। भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंगों में से यह अंतिम ज्योतिर्लिंग है। इस स्थान को ‘शिवालय’ भी कहा जाता है।
संपूर्ण पर्व मकरसंक्रांति | significance of festival of Makarsankranthi
Jan 13 2022
संपूर्ण पर्व मकरसंक्रांति | significance of festival of Makarsankranthi
Hello Everyone , सूर्य को वेदों में जगत की आत्मा कहा गया है। समस्त चराचर जगत की आत्मा सूर्य ही है। सूर्य से ही इस पृथ्वी पर जीवन है, यह आज एक सर्वमान्य सत्य है। वैदिक काल में आर्य सूर्य को ही सारे जगत का कर्ता धर्ता मानते थे । सूर्य का शब्दार्थ है सर्व प्रेरक.यह सर्व प्रकाशक, सर्व प्रवर्तक होने से सर्व कल्याणकारी है। ऋग्वेद के देवताओं कें सूर्य का महत्वपूर्ण स्थान है। यजुर्वेद ने "चक्षो सूर्यो जायत" कह कर सूर्य को भगवान का नेत्र माना है। छान्दोग्यपनिषद में सूर्य को प्रणव निरूपित कर उनकी ध्यान साधना से पुत्र प्राप्ति का लाभ बताया गया है। ब्रह्मवैर्वत पुराण तो सूर्य को परमात्मा स्वरूप मानता है। प्रसिद्ध गायत्री मंत्र सूर्य परक ही है। सूर्योपनिषद में सूर्य को ही संपूर्ण जगत की उतपत्ति का एक मात्र कारण निरूपित किया गया है। और उन्ही को संपूर्ण जगत की आत्मा तथा ब्रह्म बताया गया है। सूर्योपनिषद की श्रुति के अनुसार संपूर्ण जगत की सृष्टि तथा उसका पालन सूर्य ही करते है। सूर्य ही संपूर्ण जगत की अंतरात्मा हैं। अत: कोई आश्चर्य नहीं कि वैदिक काल से ही भारत में सूर्योपासना का प्रचलन रहा है। पहले यह सूर्योपासना मंत्रों से होती थी। बाद में मूर्ति पूजा का प्रचलन हुआ तो यत्र तत्र सूर्य मन्दिरों का नैर्माण हुआ। भविष्य पुराण में ब्रह्मा विष्णु के मध्य एक संवाद में सूर्य पूजा एवं मन्दिर निर्माण का महत्व समझाया गया है। अनेक पुराणों में यह आख्यान भी मिलता है, कि ऋषि दुर्वासा के शाप से कुष्ठ रोग ग्रस्त श्री कृष्ण पुत्र साम्ब ने सूर्य की आराधना कर इस भयंकर रोग से मुक्ति पायी थी। प्राचीन काल में भगवान सूर्य के अनेक मन्दिर भारत में बने हुए थे। उनमे आज तो कुछ विश्व प्रसिद्ध हैं। वैदिक साहित्य में ही नहीं आयुर्वेद, ज्योतिष, हस्तरेखा शास्त्रों में सूर्य का महत्व प्रतिपादित किया गया है। मकर संक्राति एक ऐसा त्योहार है जिस दिन किए गए काम अनंत गुणा फल देते हैं. मकर संक्रांति को दान, पुण्य और देवताओं का दिन कहा जाता है. मकर संक्रांति को 'खिचड़ी' भी कहा जाता है. पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, मकर संक्रांति के दिन सूर्य देव अपने पुत्र शनि के घर जाते हैं. मकर संक्रांति से ही ऋतु परिवर्तन भी होने लगता है. मकर संक्रांति से सर्दियां खत्म होने लगती हैं और वसंत ऋतु की शुरुआत होती है. इस साल मकर संक्रांति पर विशेष योग बन रहा है क्योंकि सूर्य के साथ पांच अन्य ग्रह (सूर्य, शनि, बृहस्पति, बुध और चंद्रमा) मकर राशि में विराजमान रहेंगे.
संकट मोचन हनुमानाष्टक Sankat Mochan Hanumanashtak | Full meaning of Hanuman Stuti | Worship of God Hanuman
Dec 11 2021
संकट मोचन हनुमानाष्टक Sankat Mochan Hanumanashtak | Full meaning of Hanuman Stuti | Worship of God Hanuman
Listen the full meaning of Hanuman Stuti . Sankat Mochan Hanuman Ashtak . संकटमोचन हनुमान जी की आराधना के लिए प्रतिदिनसमर्पित है । संकटों और कष्टों से मुक्ति के लिए आज मंगलवार के दिन आपको संकटमोचन हनुमानाष्टक का पाठ करना चाहिए। आइए जानते हैं संकटमोचन हनुमानाष्टक पाठ के बारे में।संकटमोचन हनुमानाष्टक बाल समय रबि भक्षि लियो तब, तीनहुं लोक भयो अंधियारो। ताहि सों त्रास भयो जग को, यह संकट काहु सों जात न टारो॥ देवन आन करि बिनती तब, छांड़ि दियो रबि कष्ट निवारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ बालि की त्रास कपीस बसै गिरि, जात महाप्रभु पंथ निहारो। चौंकि महा मुनि शाप दियो तब, चाहिय कौन बिचार बिचारो॥ कै द्विज रूप लिवाय महाप्रभु, सो तुम दास के शोक निवारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ अंगद के संग लेन गये सिय, खोज कपीस यह बैन उचारो। जीवत ना बचिहौ हम सो जु, बिना सुधि लाय इहां पगु धारो॥ हेरि थके तट सिंधु सबै तब, लाय सिया-सुधि प्राण उबारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ रावन त्रास दई सिय को सब, राक्षसि सों कहि शोक निवारो। ताहि समय हनुमान महाप्रभु, जाय महा रजनीचर मारो॥ चाहत सीय अशोक सो आगि सु, दै प्रभु मुद्रिका शोक निवारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ बाण लग्यो उर लछिमन के तब, प्राण तजे सुत रावण मारो। लै गृह बैद्य सुषेन समेत, तबै गिरि द्रोण सु बीर उपारो॥ आनि सजीवन हाथ दई तब, लछिमन के तुम प्राण उबारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ रावण युद्ध अजान कियो तब, नाग कि फांस सबै सिर डारो। श्रीरघुनाथ समेत सबै दल, मोह भयोयह संकट भारो॥ आनि खगेस तबै हनुमान जु, बंधन काटि सुत्रास निवारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥बंधु समेत जबै अहिरावन, लै रघुनाथ पाताल सिधारो। देबिहिं पूजि भली बिधि सों बलि, देउ सबै मिति मंत्र बिचारो॥ जाय सहाय भयो तब ही, अहिरावण सैन्य समेत संहारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ काज किये बड़ देवन के तुम, वीर महाप्रभु देखि बिचारो। कौन सो संकट मोर गरीब को, जो तुमसों नहिं जात है टारो॥ बेगि हरो हनुमान महाप्रभु, जो कछु संकट होय हमारो। को नहिं जानत है जग में कपि, संकटमोचन नाम तिहारो॥ दोहा लाल देह लाली लसे, अरू धरि लाल लंगूर। बज्र देह दानव दलन, जय जय जय कपि सूर।।
मनुष्य के सबसे बड़े छ: शत्रु | षड्रिपु | 6 most Important Enimies of Human Being
Jun 18 2021
मनुष्य के सबसे बड़े छ: शत्रु | षड्रिपु | 6 most Important Enimies of Human Being
Hello Everyone ,In Hindu Theology, Arishadvarga Or Shadripu (षड्रिपु ) Are The Six Enemies Of The Mind, Which Are: Kama (Lust), Krodha (Anger), Lobha (Greed), Mada (Arrogance), Moha (Delusion), And Matsarya (Jealousy); The Negative Characteristics Of Which Prevent Man From Attaining Moksha. उलूकयातुं शुशुलूकयातुं जहि श्वयातुमुत कोकयातुम् । सुपर्णयातुमुत गृध्रयातुं दृषदेव प्र मृण रक्ष इन्द्र ।। मनुष्य के सबसे बड़े छ: शत्रु | षड्रिपु | 6 Most Important Enimies Of Human Being In Hindi, Is A Must-Listen For Everyone Who Intends To Seek Motivation. This मनुष्य के सबसे बड़े छ: शत्रु | षड्रिपु | 6 Most Important Enimies Of Human Being Podcast Will Help You Live Life With Positivity. It Not Only Talks About Self-Motivation But Also, How To Keep Up With A Positive Attitude. This Podcast Will Help Youfight With Negativity And Bring A Motive, Hence Called A Motivational Podcast. We Often Need A Spark That Uplifts Our Mood And Helps Us Move Away From Depressing Thoughts. This Podcast Will Help You With The Same. It Gives You The Motivation You Lack And The Positive Vibes That You Seek. We Offer A Variety of motivational videos And The Best Part Is That You Can Access It While Traveling, While Working Out In The Gym, And Doing Anything, Anywhere At Any Point Of Time Be It Early Morning Or Late At Night. So, Stream, Download, And Enjoy The Ad-Free Experience.मनुष्य के सबसे बड़े छ: शत्रु | षड्रिपु | 6 Most Important Enimies Of Human Being , प्रेरणा लेने का इरादा रखने वाले हर व्यक्ति को ज़रूर सुनना चाहिए।